Dharm & religion; Vigyan & Adhyatm; Astrology; Social research

Dharm & Religion- both are not the same; Vigyan & Adhyatm - Both are the same.....

157 Posts

269 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 954 postid : 81

ज्योतिष : ४. कालसर्प योग

Posted On: 19 Jun, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अगर आपको कालसर्प योग है अर्थात आपके सारे ग्रह राहू एवं केतु से घिरे है तो – प्रिये दोस्तों, कृपया इसे आजमाए एवं आप निश्चित ही अपने को पहले से बेहतर पायेगे –
Dear friend, please go through these and you will get the relief certainly…

कालसर्प योग निवारण के लिए ( Kalsarp yog निवारण ) –

१. आप नासिक जाये ( त्रिंबकम मंदिर – महा शमशान , मुंबई के नजदीक ) एवं कालसर्प शांति त्रिंबकम मंदिर में कराये | ये सदा के लिए कालसर्प योग का निवारण कर देगा | नासिक छोड़ कर दूसरा कोई जगह इस काम के लिए इंडिया में नहीं है | इस पूजा में करीब ३ घंटे लगते है |
1. You go to Nasic (Trayambakeswar temple i.e Maha samsan- Near Mumbai) for puza specified for Kalsarp yog (Puza time 3 hrs); This is only one place in India for this worship for complete relief for ever.

२. नाग पंचमी (सावन महीने के शुक्ल पक्ष पंचमी को ) को शिव मंदिर में रुद्राभिषेक नमक चमक विधि द्वारा कराये, ये एक साल के लिए दोष का निवारण करेगा, अगर फायदा समझ में आये तो इसे हर साल कराएँ |
2. You can do Rudrabhisek on Nag panchami i.e. Sukl pakchh5 by Namak-chamak bidhi in Sawan month in any Shiwalay for one year relief and if you fill better, be continue for years.

३. राहू मन्त्र का जाप करे – ॐ रं राहवे नमः ( ७२००० )
3. Jap the Rahu mantra – Ohm Ram Rahve namah – 72000 times.

४. चांदी का नाग-नागिन बनवा कर इसकी प्राण-प्रतिष्ठा करे और इसे बहते जल / नदी में ब्रहम मुहूर्त में प्रवाहित कर दे |
4. Do Pran-pratistha of Nag-Nagin made by Silver and then leave it in flowing water/River at Brahm-muhurt.

५. ताम्बे का सर्प बनवा कर इसकी प्राण-प्रतिष्ठा करे और इसे किसी शिवालय में ब्रहम मुहूर्त में छोर देवें |
5. Do Pran-pratistha of sarp made by Copper and then leave it in Shiwalay at Brahm-muhurt

६. घर से बाहर निकलते समय दूर्वा/पीपल/आम के पत्ते से अपने ऊपर पानी छिड़क देवें | यह दिन भर के लिए कम करता है |
6. Sprinkle water by the leaf of Durva/Pipal/Aam daily before going outside the house.

७. रूद्र-सूक्त जल से स्नान करे |
7. Bath by Rudr-sukt jal.

८. सप्त-धातु से बने श्री नागपाश यंत्र को रोज सुबह में दर्शन करें |
8. See daily in the morning the Nag-pash yantr made by Sapt-dhatu.

९. शिव पूजा करें |
9. Shiv puza kare. (Worship the God Shiv).

कालसर्प योग निवारण का उचित समय : -

१. सावन महीने के शुक्ल पक्ष पंचमी (नाग पंचमी ) को
२. किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष पंचमी को
३. सोमवार को किसी भी शिवालय में |

नोट : – १. घर में किसी मांगलिक कार्य / शादी होने पर १-साल तक कालसर्प-शांति न कराये |
1. Don’t do Kalsarp shanti upto 1-year of any Manglic kary eg Marriage/Any Important Puza etc.

२. अगर पत्नी गर्भवती हो तो कालसर्प शांति न कराये |
2. Don’t do Kalsarp shanti if wife प्रेग्नंत.

With love धीरज कुमार 9431000486.

| NEXT



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

7 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

MANISH के द्वारा
December 20, 2011

THANK YOU VERY MUCH

manoj kumar के द्वारा
July 25, 2010

Dear Dheeraj Thank you very much for this wonder ful information one thing you have to clear that when it can be done? any time? any Mahurat? any day?(special) any body or who is effected?

    Er. D.K. Shrivastava Astrologer के द्वारा
    July 26, 2010

    कृपया पुनः लेख को पढ़े, जबाब मिल जायेगा |

Ramesh bajpai के द्वारा
July 3, 2010

धीरज जी बहुत बहुत धन्यबाद

Ramesh bajpai के द्वारा
July 3, 2010

Dhiraj जी kalsarpyog को हिंदी मे लिखने और लोगो तक पहुचाने के लिए आभार.bahut ही सरहनीय योगदान

Ramesh bajpai के द्वारा
June 20, 2010

DHIRAJ जी कालसर्प पर आपने बहुत अच्छा लिखा है पर इसे हिंदी मे लिखते तो ठीक था

    Astrologer DHIRAJ KUMAR के द्वारा
    June 25, 2010

    रमेश जी, आपके कथनानुसार मैंने इसे हिंदी में लिख दिया है, अवश्य पढ़े |


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran